मध्यकालीन भारत के ऐतिहासिक स्थल की सम्पूर्ण जानकरी

मध्यकालीन भारत के ऐतिहासिक स्थल की सम्पूर्ण जानकरी

अजमेर (अजयमेरु)

  •  आधुनिक राजस्थान के मध्य में स्थित, अजमेर नगर की स्थापना 1113 ई. में शाकम्भरी के चौहान शासक, अजयदेव ने की थी। भजयराम
  •  विग्रहराज चतुर्थ ने अजमेर में एक संस्कृत पाठशाला का निर्माण करवाया था।
  •  कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा यह एक मस्जिद में परिणत कर दी गयी थी, जो कि वर्तमान में 'ढाई-दिन का झौपड़ा' कहा जाता है।
  •  अजमेर में ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती (11411236 ई.) की प्रसिद्ध दरगाह है।

 अन्हिलवाड़

  • गुजरात के पाटन नगर को मध्यकालीन अन्हिलवाड़ से समीकृत किया जाता है।
  •  चालुक्य वंश की एक शाखा के मूलराज प्रथम (942-995 ई.) ने गुजरात के एक बड़े भाग को जीतकर अन्हिलवाड़ को अपनी राजधानी बनाया।
  • अन्हिलवाड़ 1025 ई. में महमूद गजनवी के आक्रमण का शिकार हुआ।

 अमृतसर

  •  यह सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थल है।
  •  सिक्खों के चौथे गुरु रामदास को 1577 ई. में 1589 ई. में गुरु अर्जुनदेव के एक शिष्य शेख मियां मीर ने सरोवर के बीच में स्थित वर्तमान स्वर्ण मंदिर (पूर्व नाम हरमंदिर साहब की नींव रखी।
  •  महाराजा रणजीतसिह के समय स्वर्ण मंदिर ने वर्तमान स्वरूप ग्रहण किया।

 असीरगढ़

  •  खानदेश में ताप्ती नदी के तट पर स्थित यह दुर्जेयगढ़ काफी अरसे तक महत्वपूर्ण बना रहा।
  •  इसका प्राचीन नाम अश्वत्थामागिरि था।
  •  यह बुराहनपुर) (महाराष्ट्र) के निकट स्थित है।
  •  बुराहनपुर मध्यकाल में दक्षिण भारत पहुँचने का द्वार समझा जाता था।
  •  1601 ई. में अकबर ने इस पर आधिपत्य जमाया।
  •  आधुनिक महाराष्ट्र के मध्य में स्थित अहमदनगर मध्यकालीन इतिहास में एक महत्वपूर्ण राज्य रहा है।
  •  यह निजामशाही सुल्तानों की राजधानी थी।
  •  अहमदनगर की स्थापना निजामशाही वंश के पहले सुल्तान, मलिक अहमद निजाशह ने की थी।
  •  शाहजहाँ के शासनकाल में 1633 ई. में अहमदनगर मुगल साम्राज्य का अंग बना लिया गया।
  •  यहाँ की प्रसिद्ध कृतियों में अहमदनगर का किला, बाग-ए-रोजा, बाग-ए-बहिश्त, तोर्रा बीबी मस्जिद प्रमुख हैं

 अहमदाबाद

  •  गुजरात राज्य का प्रमुख शहर अहमदाबाद साबरमती नदी के किनारे बसा हुआ मध्यकालीन नगर है।
  •  गुजरात के सुल्तान अहमदशाह (1411-1441 ई.) ने की थी।
  •  सर टॉमस रो (1615 ई.) ने अहमदाबाद को तत्कालीन लन्दन के बराबर बड़ा बताया। गुजरात शैली का सबसे सुन्दर नमूना अहमदाबाद की प्रसिद्ध जामा मस्जिद है। इसे
  •  अहमदशाह ने 1423 ई. में पूर्ण करवाया था।
  •  अहमदाबाद का पटोला” नामक कपड़ा फिलिपीन्स, बोर्नियों, जावा, सुमात्ना, आदि देशों को भेजा जाता था।

 आगरा

  •  उत्तर प्रदेश का एक प्रसिद्ध शहर, जिसकी नींव दिल्ली के सुल्तान सिकन्दर लोदी ने 1504 ई. मोरखी थी।
  •  तारीख-ए-दाउदी' के अनुसार सिकन्दर प्रायः आगरा से ही रही करता था।
  •  1565 ई. में अकबर ने आगरा में लाल पत्थर का किला बनवाना आरम्भ किया, जो आठ वर्षों में तैयार हुआ।
  •  आगरा के किले की साधारण रूपरेखा राजा मानसिद्धू द्वारा बनवाये ग्वालियर किले से मिलती है।
  •  1558 ई. से 1638 ई. तक आगरा की मुगल साम्राज्य की राजधानी होने का गौरव प्राप्त है।
  •  जहाँगीर के काल में आगरा में एतामदुद्दौला का मकबरा बना।
  •  आगरा की शान शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया ताजमहल है। ताजमहल को प्रायः "भारत का मोती" कहा जाता है।

आमेर (अम्बर)

  • आमेर को तकरीबन 100 वर्षों (1036 ई. से 1727 ई.) तक कछवाहा राजाओं की राजधानी रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।
  •  18 नवम्बर, 1727 ई. में सवाई राजा जयसिह ने जयपुर को अपनी नई राजधानी बनाया।

 उदयपुर

  •  राजस्थान के दक्षिणी भाग में स्थित झीलों की नगरी के विशेषण से प्रख्यात है। • मेवाड़ के सूर्यवंशी सिसोदिया शासक महाराणा उदयसिह ने 1567 ई. में 'अघटपुर' नामक प्राचीन नगर से 3 किमी दूरी पर उदयपुरकी स्थापना की थी।
  •  महाराणा जगतसिह द्वारा 1651 ई. में बनवाया गया, जगदीश मंदिर उदयपुर का सबसे बड़ा मंदिर है।

 औरंगाबाद

  •  महाराष्ट्र के दक्कन के पठार के मध्य में स्थित औरंगाबाद नगर में भारतीय इतिहास की कई करवटें लेते देखा गया है।
  •  पहले सातवाहनों और फिर वाकाटकों के हाथों में यहाँ की राजसत्ता आयी।
  •  इसके बाद यहाँ बादामी के चालुक्य वंश और राष्ट्रकूटों को शासन रहा।
  •  1626 ई. मे मलिक अम्बर के पुत्न फतेह ने इस नगर का नाम अपने नाम पर फतेहनगर रख दिया। इसके कुछ ही वर्षों बाद औरंगजेब ने इसे औरंगाबाद बना दिया।
  •  औरंगजेब की बेगम रबिया-उद्दीरानी का मकबरा या बीबी का मकबरा, ताजमहल की असफल अनुकृति यहीं पर है। इसका निर्माण कार्य अताउल्ला खाँ के नेतृत्व में 1679 ई. में सम्पन्न हुआ।

 कलकत्ता

  • आधुनिक पश्चिमी बंगाल की राजधानी कलकत्ता (कोलकाता) की स्थापना 1590 ई. में ईस्ट इण्डिया कम्पनी के प्रतिनिधि जॉब चारनॉक द्वारा एक व्यापारिक संस्थान के रूप में की गयी थी।
  •  यह काली मंदिर के कारण कालीघाट कहलाता था।

 कालिंजर

  • उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में कालिजर का किला मध्यकाल में एक सुदृढ़ किला माना जाता था।
  • महमूद गजनवी ने 1022 ई. के अन्त में बुन्देलखण्ड के शासक गंड से कालिजर लेने का प्रयास किया।
  • 1202-03 ई. में कुतुबुद्दीन ऐबक ने चंदेल राजा परमादित्य को युद्ध में पराजित कर कालिजर को जीत लिया।
  •  1545 ई. में शेरशाह सूरी ने बुन्देलों से एक भारी संघर्ष के बाद इसे जीत लिया।
  •  1569 ई. में इस पर अकबर अधिकार हो गया।
  •  मध्य प्रदेश के जिला छतरपुर में स्थित खजुराहों मंदिर समूह के लिये अति प्रसिद्ध है।
  •  दसवीं से बरहवीं शताब्दी में चन्देलों के शासनकाल में इन मंदिरों का निर्माण हुआ।
  •  खजुहारों के सुन्दर मंदिर में से अधिकांश का निर्माण राजा धंग (954-1002 ई.) के द्वारा करवाया गया था।
  •  सर्वश्रेष्ठ कन्दरिया महादेव का मंदिर है।

 खानवा (खनुवा) राजस्थान

  •  राजस्थान में भरतपुर के निकट एक ग्राम, जो फतेहपुर सिकरी से 10 मील उत्तर पश्चिम में स्थित है।
  •  यहाँ मेवाड़ के राणा साँगा और बाबर के मध्य शनिवार, मार्च 16, 1527 ई. को खानवा का भीषण युद्ध हुआ था।

 चौसा विहार

  •  बिहार में बक्सर के निकट कर्मनाशा नदी के किनारे चौसा नामक एक छोटा-सा कस्बा है।
  •  27 जून, 1539 ई. को इस स्थान पर हुमायूँ और शेरशाह सूरी के बीच युद्ध हुआ था।
  •  हुमायूँ बुरी तरह पराजित हुआ और उसे अपनी जान बचाकर भागना पड़ा।

 जयपुर

  •  आधुनिक राजस्थान की नकी राजधानी जयपुर की नींव 18 नवम्बर, 1727 ई. को कछवाहा शासक सवाई जयसिह (1700-1743 ई.) के द्वारा रखी गयी थी।
  •  जयपुर के निर्माण में जयसिह को विद्याधर नामक बंगाली नगर नियोजक से विशेष मदद मिली थी।

 जहाँपनाह

  •  यह वर्तमान दिल्ली के निकट तुगलक कालीन ध्वस्त नगर है।
  •  महम्मद तुगलक ने 1350 ई. के लगभग इस शहर की बुनियाद डाली थी।
  •  इसे दिल्ली के सात नगरों में से चौथा नगर कहा जाता है।

 जोधपुर

  •  राजस्थान में जोधपुर की स्थापना 1459 ई. में राव जोधा (1438-89 ई. ने की थी।
  •  मंडोर से हटकर नयी राजधानी यहा बसायी गयी थी।
  •  जोधपुर पर 1565 ई. में मुगलों का अधिकार हो गया।
  •  औरंगजेब के समय जोधपुर का शासक जसवंत सिह था।
  •  यह नगर गोमती नदी के किनारे बसा उत्तर प्रदेश का एक नगर है, जो पहले एक राज्य था।
  •  इसकी स्थापना सुल्तान फिरोजशाह तुगलक ने की थी।
  •  उसने उसका नामकरण अपने पूर्वाधिकारी मुहम्मद तुगलक के नाम पर किया, जिसे जौना खाँ भी कहते थे।
  • 'मलिक-उश-शर्क' की उपाधि धारण कर सुल्तान बन गया।
  •  जौनपुर को शीराज-ए-हिन्द कहा जाने लगा था।
  •  यहा वास्तुकला की विशिष्ट शैली विकसित हुई, जिसका शानदार नमूना 1408 ई. में बनी अटाला मस्जिद है।

तंजौर

  •  पूर्व मध्यकाल में तंजौर या तंजूर नगरी चोल साम्राज्य की राजधानी के रूप में काफी विख्यात थी।
  •  तंजौर को मंदिरों की नगरी कहना उपयुक्त होगा क्योंकि यहाँ पर 75 छोटे-बड़े मंदिर है। द्रविड़ शैली
  •  तंजौर चोल शासक राजराज (985-1014ई.) द्वारा निर्मित भव्य वृहदेश्वर मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।
  •  इसका शिखर 190 फुट ऊँचा है। यह मंदिर भारतीय स्थापत्य का अद्भुत नमूना है।

 तराइन

  •  हरियाणा में तराइन, थानेश्वर से 14 मील दक्षिण में दिल्ली मार्ग पर स्थित है।
  •  पृथ्वीराज चौहान तृतीय (रायपिथौरा) ने तराइन के मैदान में मुहम्मद गोरी को 1191 ई. में पराजित किया था।
  •  किन्तु 1192 ई. में गोरी ने पृथ्वीराज को पराजित कर दिल्ली में पहली बार मुस्लिम राज्य की नींव रखी।

 तालीकोटा कर्नाटक

  •  मैसूर के समीप कृष्णा नदी के तट पर स्थित तालीकोटा नगर इतिहास में इसलिये प्रसिद्ध हुआ, क्योंकि यहाँ 1565 ई. में एक भीषण युद्ध ने एक बहुत ही सम्पन्न साम्राज्य को
  •  नेस्तनाबूत कर दिया, वह साम्राज्य था – विजयनगर साम्राज्य । 23 जनवरी, 1565 ई. को घमासान तालीकोटा का युद्ध हुआ।
  •  युद्ध में विजयनगर की पराजय हुई।

 तुगलकाबाद

  • वर्तमान दिल्ली से लगभग 11 मील दक्षिण और कुतुबमीनार से 3 मील दूर स्थथित तुगलकाबाद की नींब रायामुद्दीन तुगलक (1320-1325 ई.) ने रखी थी, और इसे अपनी राजधानी बनाया था।
  •  मुहम्मद तुगलक के समय दिल्ली से राजधानी दौलताबाद (देवगिरि) ले जाने और वापस दिल्ली लाने से तुगलाबाद उजाड़-सा हो गया था।

 दौलताबाद (देवगिरि)

  •  यह स्थान महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में गोदावरी नदी के उत्तरी घाटी में स्थित है।
  •  इसका पर्वनाम देवगिरि था, किन्तु मुहम्मद बिन तुगलक ने इसका नाम बदलकर दौलताबाद रख दिया।
  •  1707 ई. में औरंगजेब की मृत्यु बुराहनपुर में होने पर उसे दौलताबाद में ही दफनाया गया।

पानीपत

  • आधुनिक हरियाणा के परनाल जिले में पानीपत स्थित है।
  •  पानीपत की पहली लड़ाई 21 अप्रैल, 1526 को दिल्ली के सुल्तान इब्राहीम लोदी और मुगल आक्रमणकारी बाबर के बीच हुई।
  •  5 नवम्बर, 1556 को अफगान बादशाह आदिलशाह सूर के योग्य सेनापति एवं मंत्नी हेमू और अकबर के बीच हुई।
  •  पानीपत की तीसरी लड़ाई 14 जनवरी, 1761 में अफगान आक्रमणकारी अहमदशाह अब्दाली और मुगल बादशाह आलम द्वितीय के संरक्षक और सहायक मराठों के बीच हुई।

 फतेहपुर सीकरी

  • यह स्थान आगरा से 23 मील पश्चिम मे स्थित है। मुगल सम्राट अकबर के द्वारा बसाये हुए इस भव्य नगर के खण्डहर आज तो अपने तत्कालीन वैभव की झाँकी प्रस्तुत करते हैं।
  • अकबर के समय यहां प्रसिद्ध सफी सन्त शेख सलीम चिश्ती रहेता था।
  • सीकरी का निर्माण 1570 ई. में प्रारम्भ हुआ और पूरा नगर आलीशान इमारतों के साथ कुछ ही वर्षों में पार बनकर तैयार हो गया।
  •  1572 ई. में गुजरात को जीतने के बाद अकबर ने सीकरी का नाम फतेहपुर सीकरी रेख दिया। यहाँ की सर्वोच्च इमारत बुलन्द दरवाजा है, जिसकी ऊँचाई भूमि से 55 मीटर हैं।
  •  इसका निर्माण अकबर ने 1602 ई. में असीरगढ़ किले को जीतने की स्मृति में करवाया।

 बीजापुर

  • कर्नाटक में शोलापुर से 68 मील दूर भीमा एवं कृष्णा के दोआब प्रदेश में बीजापुर स्थित है।
  • पन्द्रहवी शताब्दी के अन्त में जब बहमनी सल्तनते पाँच शाखाओं में बँट गयी, तब उनमें बीजापुर एक महत्वपूर्ण सल्तनत बनी।
  • बीजापुर सल्तनत की स्थापना बसुफ आदिलशाह ने की थी। बीजापुर के सुल्तान इब्राहिम द्वितीय (1580-1626 ई.) के संरक्षण में प्रसिद्ध इतिहासकार मुहम्मद कासिम उर्फ फरिश्ता ने अपने ग्रंथ तारीख-ए-फरिश्ता की रचना की।
  •  गोल गुम्बज मुहम्मद आदिलशाह (1627-1657 ई.) का मकबरा है।
  •  यह संसार का सबसे बड़ा गुम्बज है। इसका निर्माण 166 ई. मे/पूर्ण हुआ था।

 मान्डू

  •  मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र का एक नगर है, जिसका प्राचीन नाम मण्डपदुर्ग यो माण्डवगढ़ है।
  •  मालवा के सुल्तान हुशंगशाहू (1405-1435 ई.) ने अपनी राजधानी धार के स्थान पर माण्डू बतायी।
  •  अकबर के समय मालवा का शासक बाजबहादुर था, वह संगीत और कला का प्रेमी था।
  •  माण्ड दुर्ग में अनेक सुन्दर मस्जिदों, महलों जैसे- जामा मस्जिद, हिन्डोला महल, हुशंग की कब्र, जहाज महल, बाजबहादुर एवं रूपमती के महल आदि के ध्वंसावशेष मिलते है।

 मूर्शिदाबाद

  •  बंगाल में भागीरथी के तट पर स्थित इस नगर का उत्तर मध्यकालीन भारतीय इतिहास में बड़ा महत्व रहा है।
  •  इसकी नींव 1704 ई. के प्रारम्भ में मुर्शीद कुली मे बंगाल की प्राचीन राजधानी कर्णसुवर्ण के स्थान पर डाली
  •  नवाब बनने पर मुर्शीद कुली खाँ ने ढाका के स्थान पर मुर्शिदाबाद को बंगाल की राजधानी बनाया
  •  यह नगर 1773 ई. तक बंगाल की राजधानी रहा।

 लाहौर

  • रावी नदी के दाहिने तट पर बसा यह शहर वर्तमान मे पाकिस्तान का एक प्रसिद्ध शहर है, इसका उल्लेख युवानच्वांग ने भी किया।
  • महमूद गजनवी के आक्रमण के समय लाहौर पर हिन्दुशाही राज्य का शासन था।
  • 1022 ई. में महमूद गजनवी की सेनाओं ने लाहौर पर आक्रमण कर इसे लूटा।
  • 1799 ई. में महाराजा रणजीत सिह ने पुनः लाहौर को पंजाब की राजधानी बनाया।
  • रणजीत सिह की समाधि यहाँ की अन्य प्रसिद्ध इमारत है।
  • औरंगजेब द्वारा निर्मित नौलखा महल प्रसिद्ध है, जो संगमरमर से बना है।

 विजयनगर

  • प्रसिद्ध मध्यकालीन विजयनगर राज्य की इसी नाम की राजधानी विजयनगर मध्यकाल में अपनी समृद्धि एवं वैभव से दुनिया को चकाचौंध किया करती थी।
  • हरिरह एवं बुक्का ने 1336 ई. में तुंगभद्रा नदी के तट पर रखी। कृष्णदेव राय (1509- 1529 ई.) यहाँ का सर्वाधिक प्रसिद्ध शासक था।

 सिकन्दरा

  • आगरा से लगभग 5 मील दूर, दिल्ली जाने वाले राजमार्गों से हटकर सिकन्दरा नामक गाँव हैं, जहाँ अकबर का मकबरा स्थित हैं।

 हम्पी

  •  प्रसिद्ध मध्यकालीन विजयनगर राज्य के खण्डहर वर्तमान हाथों में मौजूद है।
  •  यह स्थान कर्नाटक में मैसूर के निकट है।
  •  कृष्णदेवराय के शासनकाल में बनाया गया प्रसिद्ध हजाराम मंदिर विद्यमान हिन्दू मंदिरों की वास्तुकला के पूर्णतम नमूनों में से एक हैं।
  •  विट्ठलस्वामी मंदिर भी विजयनगर शैली का एक सुन्दर नमूना है।

 हैदराबाद

  • यह शहर वर्तमान में दक्षिण भारत के नवीनतम् राज्य तेलंगाना और आन्ध्र प्रदेश राज्य की राजधानी है।
  • कुतुबशाही वंश के पाँचवें सुल्तान कलीकुतुबशाह ने 1591 ई. में गोलकुण्डा से अपनी राजधानी हस्तांतरित कर मुसी नदी के दक्षिणी तट पर अपनी नवीन राजधानी बनाई, जहाँ वर्तमान हैदराबाद स्थित है।
  • सुल्तान ने अपनी प्रेमिका भागमती के नाम से इस नगर का नाम भागनगर रखा।
  •  1724 ई. में दक्कन के सूबेदार निजामुल मुल्क आने हैदराबाद को स्वतंत्न 1 रिसायत के रूप में हस्तगत कर लिया 1560 ई. के लगभग 1 1/2 मील लम्बी हुसैन सागर झील का निर्माण इब्राहीम कुली कुतुबशाह द्वारा करवाया गया था

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow